Because Hardw​ork Has No Subsitute...

श्री राजेन्द्र राजा 
​प्रखर साहित्यकार मंच संकल्पना है देश के उस साहित्यकार की जिनके आराध्य वीर सावरकर जी और नेताजी सुभाष चन्द्र बोष जी जैसे महान देशभक्त हैं।
श्री राजेन्द्र राजा की नजरों में चार धाम की तीर्थ यात्रा से ज्यादा पावन जगह अंडमान की वो जेल है जहाँ महान क्रांतिकारी वीर सावरकर जी को काला पानी की सजा के दौरान रखा गया था।
अग्रिम पंक्ति के साहित्यकार का नाम है श्री राजेन्द्र राजा जी।

संदीप वशिष्ठ-
कवि परिवार में जन्में संदीप वशिष्ठ एक बेहद संवेदनशील रचनाकार हैं | आपको कविता का गुण विरासत में मिला है |  आपके पिता श्री राजेन्द्र राजा जी,  देश के बड़े व्यंग्य कवि होते हैं |  आपकी रचनाओं में भी ओज एवं व्यंग्य ज्यादातर देखने को मिलता है |  आपने देश भर में राष्ट्रीय स्तर के कवि सम्मेलनों का संयोजन करने के साथ साथ उनमें सिरकत की है | आप प्रखर साहित्यकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक होते हैं |

'चेतन' नितिन खरे-
​बुन्देलखण्ड के महोबा जिले के एक बेहद छोटे से गाँव सिचौरा में जन्में युवा कवि 'चेतन'  नितिन खरे एक साधारण किसान परिवार से सम्बन्ध रखते हैं | आपने कम उम्र में देश के कई प्रान्तों में काव्य पाठ किया है |आप समसामयिक विषयों एवं राष्ट्रीय ओज की धारा से ओतप्रोत कवितायें लिखते हैं |  विभिन्न टीवी चैनलों के द्वारा आपने अपनी कविता को देश दुनिया तक पहुँचाया है | आप प्रखर साहित्यकार मंच के राष्ट्रीय संगठन मंत्री होते हैं |

Call us:

+91-9555133845

प्रमोद शर्मा-
​बेहद कोमल ह्रदय वाले एवं अनुशाषन पसंद प्रमोद शर्मा एक अच्छे कलमकार होते हैं | आपने विभिन्न टीवी चैनलों के साथ साथ कवि  सम्मेलनों में काव्य पाठ किया है |  आप प्रखर साहित्यकार मंच के कोषाध्यक्ष होते हैं |

 प्रभात परवाना
अपने उत्तम ओज पूर्ण काव्य पाठ के लिए विशेष तौर पर पहचाने जाने वाले प्रभात परवाना देश भर के विभिन्न अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों के मंचो पर सक्रीय होने के साथ साथ प्रखर साहित्यकार मंच के राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे है 

प्रखर साहित्यकार मंच एक ऐसा मंच है जिसने कविता के माध्यम से गौ रक्षा हेतु पूरे विश्व में एक बड़े रूप में जागृति लाने का काम किया।  प्रखर साहित्यकार मंच ने एक तरफ जहां शहीदों को समर्पित कवि सम्मलेन किये, वही दूसरी तरफ जेलों में बंद कैदियों की मानसिकता बदलने के लिए भी अपना अनूठा योगदान दिया है 

अमित शर्मा - 
ग्रेटर नोएडा ���े गाँव सैनी में जन्मे युवा कवि अमित शर्मा एक बेहद साधारण किसान परिवार से सम्बन्ध रखते हैं |  आपने बहुत ही कम उम्र में देश भर के राष्ट्रीय स्तर के काव्य मंचों में अपनी अद्भुत छाप छोड़ी है | आप ओज के शशक्त हस्ताक्षर होने के साथ साथ एक कुशल मंच संचालक भी हैं | आपने विभिन्न टीवी चैनलों के माध्यम से भी अपनी कविता को देश दुनिया तक पहुँचाया है | आपने गौ कवि सम्मेलनों के माध्यम से गौ माता को बचाने के लिए भी सराहनीय कार्य किया है |

Connect with us

आदित्य राजौरिया "अजनबी"
​मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले की तहसील डबरा के अंतर्गत आने वाले ग्राम सालवई के मूल निवासी हैं। पिछले कई वर्षो से लगातार लेखन और कवि सम्मेलनों में सक्रिय हैं।
कविता के माध्यम से गौ सेवा का संदेश देकर जन जागृति लाने के लिए सतत प्रयास रत हैं और कई प्रदेशों में काव्यपाठ कर चुके हैं। त्वरित घटनाओं पर और देश की वर्तमान स्थिति पर लगातार कलम चलाते रहते हैं।
मुख्यतः ओज, व्यंग और गौ भक्त कवि के रूप में सारे देश में पहचाने जाते हैं।

Prabhat PARWANA